11 May, 2018

7+ आसान उपाय अपनाए और मधुमेह को कर दे बाय बाय | All Information About The Symptoms Causes Treatment Prevention Of Diabetes In Hindi

मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के लक्षण कारण चिकित्सा बचाव के विषय मे संपूर्ण जानकारी | What is Diabetes ? How does it Happen ? what are the Symptoms ? How to Avoid ?


मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के कारण, लक्षण, दुष्प्रभाव, रोकथाम के उपाय | Information about the symptoms, causes, treatment, prevention of diabetes in hindi.


  मधुमेह को डायबिटीज या आम भाषा में शुगर कहा जाता है । मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग क्या होता है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग होने के क्या कारण है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के लक्षण अथवा पहचान क्या हैं ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के रोकथाम के आसान उपाय क्या है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग से कैसे बचे ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के दुष्प्रभाव क्या है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग मे क्या करे ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग मे क्या ना करे ? इन सभी सवालों के जवाब विस्तारपूर्वक यहां जानेंगे Complete information and articles about the symptoms, causes, treatment, prevention of diabetes in hindi.

मधुमेह रोग क्या है


  आजकल यह एक आम बीमारी है । जिसे मधुमेह या डायबिटीज कहते हैं । आम भाषा में इसे शुगर भी कहा जाता है । शुगर की बीमारी के लिए कोई उम्र निश्चित नहीं है परंतु यह माना जाता है कि 35 वर्ष के बाद यह ज्यादातर होता है । यह पुरुष और महिलाओं दोनों में पाया जाने वाला रोग है ।  
  आजकल यह बीमारी भारत में विशेष रूप से बढ़ रही है । इस बीमारी को पूर्णता खत्म करने का अभी तक कोई इलाज मॉडर्न मेडिसिन, आयुर्वेद या किसी को भी नही मिला है । हां मगर यह जरूर है कि उचित दवाइयों की मदद से मधुमेह रोग पर अधिक से अधिक काबू पाया जा सकता है ।
  मधुमेह का रोग बहुत से बच्चों में भी पाया जाता है   लेकिन यह प्रायः कम है मधुमेह के रोगियों में प्रायः देखा जाता है कि रोगी को जब यह पता चलता है कि वह मधुमेह रोग से ग्रस्त हो गया है । तो काफी डिप्रेशन में चला जाता है साथ ही खानपान एवं दवाओं पर ध्यान न देने के कारण उसके शरीर में काफी कमजोरी हो जाती है
  परंतु जो व्यक्ति मधुमेह को ठीक से समझ पाता है और खान पान एवं दवाइयों में नियमो का पालन करता है । वह इस रोग पर बड़ी ही आसानी से काबू पाकर, स्वास्थ्य एवं दीर्घायु को प्राप्त कर सकता है ।   ऐसे रोग से ग्रस्त व्यक्ति को चोट लगने से बचने की सलाह दी जाते है क्योंकि इनके शरीर पर अगर घाव हो जाते हैं तो वे जल्दी नहीं भरते ।
  इसके साथ ही विभिन्न रोगों में अक्सर उनका शुगर लेवल घटने बढ़ने लगता है । जिसके कारण उसे एक साथ कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है ।
  यह वाकई में एक बहुत चिंताजनक बात है कि हमारे देश में मधुमेह रोगियों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है हालांकि इसके लिए जागरूकता के प्रयास भी बहुत किए जा रहे हैं । इसी क्रम मे विश्व डायबिटीज दिवस भी मनाया जा रहा है । जिसके कुछ सकारात्मक परिणाम भी नजर आ रहे हैं ।

मधुमेह रोग कैसे होता है


  हमारे शरीर में इंसुलिन हारमोंस होते हैं । हमारे शरीर के पैंक्रियाज से इंसुलिन निकलता है जिसके कम हो जाने से या बिल्कुल ही निकलना बंद हो जाने से अथवा उसका उपयोग शरीर की कोशिकाएं द्वारा न कर पाने से ऐसी स्थिति उत्पन्न  में होती है ।

मधुमेह रोग होने के कारण


शुगर की मात्रा तो वैसे हर व्यक्ति में पाई जाती है परंतु इसके कारण शरीर में शुगर की मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है और वसा भी ज्यादा हो जाता है जिसके परिणाम स्वरुप रोगी को
 इसके होने के भिन्न-भिन्न कारण हो सकते हैं कोई जरूरी नहीं है कि यह रोग सभी को एक ही वजह से हो इस रोग के होने की मुख्य वजह निम्न है 

1- ओवरवेट-

  लोगों का ओवरवेट होना ।

2- आनुवंशिक

  इसकी वजह अनुवांशिक भी मानी जाती है अर्थात यह माता-पिता से भी बच्चों में हो सकता है ।

3- ज्यादा देर तक खाली पेट रहना

  कुछ लोग जो खाने पीने से काफी दूर रहते हैं और खाली पेट ज्यादा समय बिताते हैं । उन्हें भी शुगर होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है ।

4- बढती उम्र

  35 वर्ष से अधिक उम्र से ज्यादा एवं अधेड़ उम्र के बाद भी इसके होने की संभावनाएं अधिक होती हैं ।

5- लिंग

  यह रोग स्त्रियों मे मर्दों से ज्यादा होता है ।

6- मानसिक तनाव

  पूरे विश्व में आजकल लोगों को अपनी आजीविका चलाने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ रहा है । इस संघर्ष के कारण उन्हें काफी ज्यादा स्ट्रेस उठाना पड़ रहा है । जिसका असर उनके शरीर पर ही पड़ना लाजमी है । मधुमेह को भी इसकी वजह माना जा सकता है ।

7- शराब पीने से

  ज्यादा मात्रा में लगातार शराब पीने से भी व्यक्ति को शुगर होने की संभावना काफी ज्यादा रहती है ।

8- शारीरिक मेहनत की कमी

  आजकल का जीवन डिजिटल हो गया है । जिसके कारण हर कोई बैठे-बैठे ही हर काम कर लेना चाहता है । किसी जमाने में बच्चे मैदानों में या पार्क में खेला करते थे । आजकल वह गेम भी मोबाइल में अवलेबल है जिसके कारण उनका टाइम पास तो हो जाता है मगर उस खेल-खेल में उनका जो शारीरिक व्यायाम हुआ करता था, वह खत्म हो गया । इसके साथ ही पैदल चलना अब कोई पसंद नही करता ।
  शारीरिक मेहनत की जगह मानसिक मेहनत ने ले ली है । जिसके कारण शारीरिक ऊर्जा नष्ट नहीं हो पा रही है ।

9- मीठे की लत

  अत्यधिक मीठी चीजे खाने से भी मधुमेह रोग होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है ।

10- दवाओं का बुरा प्रभाव

  कभी-कभी कुछ दवाओं के बुरे प्रभाव से या उनका लंबे समय तक सेवन करने से भी शरीर का सिस्टम गड़बड़ा जाता है । जिसके कारण इस रोग का सामना करना पड़ सकता है ।

11- इंसुलिन मे गड़बड़ी

   कभी कभी इंसुलिन की शरीर में गड़बड़ी हो जाती है जिसका सीधा असर हमारे शुगर लेवल पर पड़ता है ।

12- तेजी से वजन का घटना या बढ़ना

  तेजी से वजन के घटने और बढ़ने से भी इस रोग के होने की संभावना होती है ।

मधुमेह रोग के लक्षण


 1- तेजी से वजन घटना

इस रोग का यह मुख्य लक्षण है आप अपने आस-पास भी देख सकते हैं कि जिनको शुगर रोग प्रारंभ होता है उनका शरीर का वजन काफी तेजी से गिरने लगता है । उनका शरीर आधा भी नहीं रह जाता ।
  इसलिए अगर आपके आसपास या आपके किसी अपने के भी वजन पर इस प्रकार का कोई प्रभाव दिख रहा है तो उसे मधुमेह की सम्भावना हो सकता है  ।

2- सामान से ज्यादा नींद

  दिन में सामान से ज्यादा सोना इस रोग का ही लक्षण है

3- बार-बार पेशाब लगना

  अक्सर देखा जाता है कि पेशेंट को सामान्य व्यक्ति से कहीं ज्यादा पेशाब लगती है । उसे बार-बार पेशाब के लिए जाना पड़ता है ऐसे लोगों को रात में कई बार उठ उठ कर पेशाब के लिए जाना पड़ता है

4-अधिक प्यास लगना

 अत्यधिक प्यास लगना भी इस रोग का सबसे बड़ा लक्षण है आप देख सकते हैं ऐसे रोगियों को खास करके सर्दियों के मौसम में बहुत ज्यादा प्यास लगती है

5- घावों जल्दी से न भरना

  यह एक मानी हुई बात है कि मधुमेह रोग से ग्रस्त व्यक्ति को अगर चोट लगती है तो उसे भरने में सामान्य से कहीं ज्यादा वक्त लगता है । छोटी से छोटी चोट को भी भरने में काफी समय लग जाता है  । अक्सर बिना दवाइयों के उपयोग के उसके छोटे-छोटे घाव भी नहीं भरते ।

6- थकान महसूस करना

  रोगी को अत्यधिक थकान का एहसास बार-बार होता है । वह फ्रेश नहीं महसूस करता । वह खुद को अक्सर थका हुआ है चाहे वह ज्यादा से ज्यादा आराम भी क्यु न कर ले ।

7- ज्यादा भूख लगना

   वैसे तो भूख लगना एक अच्छी बात हो सकती है परंतु हद से ज्यादा भूख लगना इस बात का संकेत है कि शरीर में कुछ असामान्य हैं । शायद यह मधुमेह का संकेत है ।

8- आंखों की दुर्बलता

  इस रोग का सीधा प्रभाव आंखों पर पड़ता है । कई बार देखा गया है कि हाई शुगर लेवल से ग्रस्त रोगी को कभी-कभी अपनी दृष्टि भी गवानी पड़ती है शुगर रोगियों को बार-बार कहा जाता है कि वह अपने आंख का चेकअप साल में हर 3 महीने में एक बार जरूर कराएं क्योंकि इस रोग का असर रोगी के आंखों पर बहुत तेजी से पड़ता है ।
  अगर आंखों की रोशनी या आंखों पर कोई इस प्रकार का प्रभाव पड़ रहा है तो यह मधुमेह के लक्षण हो सकते हैं । नंबरों का बार-बार बढ़ना इस रोग का प्रमुख लक्षण है ।

9- पेशाब पर चींटियों का आना

  इस रोग से ग्रस्त व्यक्ति द्वारा किए गए पेशाब पर चीटियां ज्यादा आती हैं ।

10- शरीर में झनझनाहट होना

  इस रोग से ग्रस्त व्यक्ति के शरीर में झुनझुनी सी होने लगती है । वह खुद को काफी असामान्य महसूस करने लगता है ।

11- शरीर में फोड़े निकलना

  इस रोग से ग्रस्त व्यक्ति के शरीर में फोड़े काफी निकलने लगते हैं हालांकि यह जरूरी नहीं है कि सभी में ऐसा हो या ऐसे व्यक्ति को यह रोग हो ही परन्तु यह इस रोग का एक प्रमुख लक्षण है इसे भी झुठलाया नहीं जा सकता ।

मधुमेह रोग के दुष्प्रभाव


1-  हृदय पर बुरा प्रभाव

  ज्यादा दिनों तक शुगर की मात्रा अनियंत्रित रहने पर रोगी को हृदय रोग होने की अत्यधिक संभावना होती है ।

2-  आंखों का कमजोर होना

  आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है । इस रोग से ग्रस्त व्यक्ति की आंखों की रोशनी काफी कम हो सकती है अंधापन भी संभव है ।

3- छोटे-छोटे घावों का भी गंभीर हो जाना

  इस रोग से ग्रसित व्यक्ति को छोटे-छोटे घाव से भी भय पैदा हो जाता है क्योंकि छोटे-छोटे घाव भी आसानी से नहीं भरते । उसके लिए चिकित्सक के पास जाना और दवाओं का उपयोग करना उसकी मजबूरी हो जाती है ।

4- किडनी पर बुरा प्रभाव

  मधुमेह रोगियों का हृदय रोग की तरह ही किडनी की बीमारी भी होना संभव है ज्यादा दिनों तक इसके असामान्य रहने की अवस्था में किडनी डिजीज होने की संभावना होती है ।

5- मोतियाबिंद


 इस प्रकार के रोगी को मोतियाबिंद होना कोई बड़ी बात नहीं है ।

मधुमेह रोग के निवारण के आसान उपाय


  दोस्तों यह एक ऐसा रोग है जिसको लाइलाज समझा जा सकता है या यूं समझ लीजिए कि इसका इलाज नहीं बल्कि इस बीमारी में रोगी को ताउम्र परहेज और दवाइयों पर निर्भर रहना पड़ता है । शुगर पर नियंत्रण का सबसे आसान उपाय चिकित्सक को नियमित स्वयं को दिखाते रहना और पूरे परहेज का पालन करना है ।
  कुछ आसान उपाय हैं भी हैं जिसे अपनाकर कोई मधुमेह रोगी बड़ी ही आसानी से इस रोग पर नियंत्रण पा सकता है

मधुमेह रोग मे क्या करें



1- रखें भोजन पर नियंत्रण

  रोगी को एक कंप्लीट आहार दिया जाए अन्यथा उसकी सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है । जहां तक संतुलित आहार का सवाल है । तो यह हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग हो सकता है । रोगी के रहन-सहन और उसके कार्य के प्रकार पर निर्भर करता है कि उसको प्रतिदिन कितनी कैलोरी ऊर्जा की आवश्यकता है ।

2- नाश्ता अवश्य करें

  जो लोग नाश्ता नहीं करते उनको शुगर होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है । ऐसे में शुगर रोगियों को नाश्ता करना आवश्यक हो जाता है ।

3- शुगर मे रामबाण भिंडी

  आप चाहे तो भिंडी के छोटे-छोटे टुकड़ों को काटकर उसे पानी में रात भर डूबाए रखें और सुबह उसी पानी का सेवन करें ।

4- चीनी का है लाजवाब विकल्प - करे इस्तेमाल

  आजकल बाजार में मेडिकल स्टोर्स पर काफी सारी मीठी गोलियां अवलेबल हैं । जिनके प्रयोग से शुगर लेवल बिल्कुल भी नहीं बढ़ता आप इन्हें प्रयोग में ला सकते हैं ।

5- सेकरीन है चीनी का उपयुक्त विकल्प

  सेकरीन चीनी का उपयुक्त विकल्प है इसके प्रयोग से शुगर लेवल बिल्कुल भी नहीं बढ़ता आप इन्हें प्रयोग में ला सकते हैं ।


6- सब्जी में करेला, अरबी, नीम एवं पालक का  करें प्रयोग

  दोस्तों सब्जियों में करेली का प्रयोग बहुत ही अच्छा होता है । जिसका स्वाद तो काफी कड़वा होता है और हमारे यहां लोग उसे ज्यादा पसंद भी नहीं करते ।परंतु मधुमेह रोगियों का इसका प्रयोग प्रतिदिन करना चाहिए । अगर संभव हो तो दोनों टाइम करना चाहिए । इसके जूस को निकालकर आप इसका सेवन करें । आपको काफी फायदा मिलेगा । नीम का प्रयोग दिन मेट्रो एकबार अवश्य करे । इसके साथ ही आप अरबी एवं सर्दियों के मौसम में आसानी से उपलब्ध पालक का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए ।


7- ब्राउन राइस : चावल एक फायदे अनेक

  दोस्तों जहां चावल शुगर लेवल को बढ़ाता है वही ब्राउन राइस न सिर्फ आपके शुगर लेवल को बनाए रखता है बल्कि आपके वजन पर भी खासा नियंत्रण रखता है । इस प्रकार ब्राउन राइस के प्रयोग से आप डबल फायदा प्राप्त कर सकते है ।

8- फलों का प्रयोग

  फलों का प्रयोग मे सबसे अच्छी बात यह है  कि इसमें प्राकृतिक चीनी मिलती है जो शुगर लेवल को बेहतर रखता है । इससे हमारे विटामिंस और मिनरल्स की आवश्यकताएं भी पूरी होती रहती हैं इसलिए खाने के आहार में प्रतिदिन फलों का प्रयोग अवश्य करें क्योंकि यह प्राकृतिक आहार आपके शरीर के विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करते हैं क्योंकि मधुमेह रोगी को अक्सर कमजोरी महसूस होती है  और शरीर काफी दुर्बल हो जाता है । ऐसे में इनका प्रयोग करके वह शुगर लेवल को बढ़ाएं बगैर ही अपने शरीर को स्वस्थ बनाए रख सकते हैं ।

9- इंद्रजौ, बादाम और चने के मिश्रण का प्रयोग दिलाएगा शुगर से निजात

  पुराने से पुराने शुगर पर नियंत्रण पाने के लिए आपको इंद्रजौ, बादाम और अच्छी प्रकार से भुने हुए चने को बराबर मात्रा में ले फिर उसे मिक्स करके उसे मिक्सर में पीस लें । इस महीन मिश्रण को एक चम्मच रोज खाने के बाद प्रतिदिन प्रयोग करें आपको लाभ अवश्य मिलेगा ।

10- हर दो घंटे पर कुछ अवश्य ले

  दोस्तों ज्यादा देर तक मधुमेह रोगियों को खाली पेट नहीं रहना चाहिए । यह उनके स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है अगर आपको शुगर लेवल को नियंत्रित करना है तो गंभीर आहार कभी न ले इसकी जगह हर 2 से 3 घंटे पर कुछ न कुछ खाते रहें । इससे आपका शुगर लेवल एकदम से नहीं बढ़ेगा और  शुगर नियंत्रित रहेगा ।

  वैसे तो पानी का प्रयोग हर किसी के लिए फायदेमंद है परंतु शुगर पेशेंट के लिए यह काफी उपयोगी है ।


11- सूरज है फायदेमंद


  वैसे तो सूरज की रोशनी विटामिन डी का एक अच्छा स्रोत माना जाता है परंतु इसके साथ-साथ इसके और भी बड़े फायदे हैं । कुछ रिसर्च में यह साबित हो चुका है कि सूरज की रोशनी इंसुलिन के स्राव में वृद्धि करती है अर्थात आपके इंसुलिन की कमी नहीं होने पाती है इसलिए थोड़ी देर सूरज की रोशनी मे जरूर बैठे ।

12- सोयाबीन का प्रयोग

  सोयाबीन हृदय एवं मधुमेह रोग में काफी लाभदायक है । इसको निरंतर आहार में लेने से काफी लाभ होता है



13- कैल्शियम युक्त हो आहार


  अगर आपका भोजन कैल्शियम युक्त है तो यह आपको मधुमेह रोग में काफी लाभ देगा ।

14- ग्रीन टी का दिन में दो बार करें प्रयोग

  दोस्तों ग्रीन टी में काफी ज्यादा मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं । जिससे हमारा शुगर लेवल बेहतर रहता है । साथी एंटीआक्सीडेंट हमारा वजन को भी नियंत्रित करने में काफी प्रभावशाली है ।

15- कॉफी का करें प्रयोग

  दोस्तों कॉफी में कैफीन होता है । जो हमें तरोताजा करने में बहुत मददगार हैं अगर आप काफी थके हुए हैं और कॉफी का प्रयोग करते हैं  तो निश्चित रूप से आप बहुत रिलैक्स महसूस करेंगे । हां ये जरूर है कि इसका ज्यादा प्रयोग हृदय के लिए घातक है । लेकिन इसका अगर नियंत्रित उपयोग किया जाए तो यह शुगर लेवल के लिए काफी फायदेमंद है ।

16- दालचीनी का प्रयोग

   वैसे तो दालचीनी स्वाद को दोगुना करने में काफी असरदार है । इसका प्रयोग अगर खाने में किया जाए तो यह शुगर पर नियंत्रण रखने में काफी मददगार साबित हो सकता है ।

17- रहे चिंतामुक्त

  चिंता चिता समान होती है दोस्तों आज हमारे आस पास जितनी बीमारियां घूम रही हैं । इसका सबसे बड़ा कारण खान पान में मिलावट और स्ट्रेस का होना है । इस स्ट्रेस को हम जितना ज्यादा कम कर सकेंगे । हम शुगर लेवल पर उतना ही नियंत्रण रख पाएंगे ।

18- ले पूरी नींद

   वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि 8 घंटे की पूरी नींद लेने वाले लोगों पर मधुमेह रोग की संभावना काफी कम रहती है और इसलिए बेहतर होगा कि आप न सिर्फ 8 घंटे की पूरी नींद लें बल्कि एक मुकर्रर वक्त पर सो जाएं । रोज-रोज सोने का समय न बदले ।

19- व्यायाम

  मधुमेह रोग का सबसे बड़ा कारण यह है कि लोग शारीरिक मेहनत बिल्कुल भी नहीं कर रहे हैं । जिसके कारण, भोज्य पदार्थो द्वारा जो ऊर्जा हम ग्रहण करते हैं उसे निकाल नही पाते हैं यदि जितनी कैलोरी ऊर्जा हमारे शरीर में उत्पन्न होती है अगर उतनी ही हम खर्च कर पाते तो शायद यह रोग हम पर कभी हावी न पाता । इसलिए इस रोग से ग्रस्त व्यक्तियों को व्यायाम बहुत ही आवश्यक है परंतु 70 वर्ष से अधिक के लोगों को हार्ड व्यायाम नहीं करना चाहिए ।
  व्यायाम करने से इंसुलिन पर सकारात्मक फर्क पड़ता है । हल्के व्यायाम का प्रयोग जरूर करें ।

20- करें मार्निंग वाॅक

  सुबह सवेरे कम से कम 5 किलोमीटर अवश्य टहल अगर सुबह समय नहीं मिल पा रहा है तो शाम को टहल सकते हैं । याद रहे शुगर लेवल बहुत हाई होने की स्थिति में बहुत जोर से न टहले
  ।

21- योग से जाएगा हर रोग

योग हर मर्ज की दवा है । आप योग को प्रतिदिन कम से कम आधे घंटे जरूर दें ।

22-वजन पर रखें काबू

  बढ़ता वजन कई बीमारियों की सौगात लाता है । यह साबित हो चुका है ओवरवेट लोगों में दूसरे लोगों से कहीं ज्यादा शुगर होने ,ब्लड प्रेशर बढ़ने या कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने आदि की संभावनाएं ज्यादा होती है जो लोग इस रोग से ग्रसित हैं उनका वजन बढ़ना बिल्कुल भी ठीक नहीं है इसलिए अपने वजन को नियंत्रित रखें । वजन को मापने का एक सीधी-सादा फार्मूला यह भी है कि आपकी लंबाई जितनी इंच की है आपका वजन भी उतना ही किलोग्राम हो ।

मधुमेह रोग मे क्या ना करें


1- एक सीधा सा फन्डा, कोई भी ऐसा खाद्य पदार्थ  ग्रहण न करें  जिसका स्वाद हो मीठा

जिसका स्वाद मीठा हो उसे बगैर डॉक्टर की सलाह के ग्रहण न करें अन्यथा वह आपकी शुगर लेवल को बढ़ा सकता है जैसे चीनी,   गुड, शहद, मिठाइयां, दूध, दही, चावल, चाकलेट आदि का प्रयोग न करें ।


2-कोल्ड ड्रिंक और शराब को कहे ना

  कोल्ड ड्रिंक का प्रयोग तकरीबन सभी लोग करते हैं कुछ कम करते हैं तो कुछ ज्यादा परंतु मधुमेह रोगियों को यह विशेष करके नुकसान करता है । ऐसे रोगियों को कोल्ड्रिंग के प्रयोग से दूरी बनानी चाहिए । साथी शराब का सेवन तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए ।

3- सिगरेट को करें बाय-बाय

  धूम्रपान हमेशा शरीर को नुकसान ही पहुंचाता है  परंतु इस प्रकार के रोगियों को धूम्रपान से बिल्कुल ही परहेज करना चाहिए । यह हृदय के लिए भी काफी नुकसानदायक है ।

4- फास्ट फूड से बचें

  वैसे फास्ट फूड हर किसी को नुकसान ही करता है परंतु मधुमेह रोगियों के लिए यह बहुत ही घातक है । इसके प्रयोग से दूर रहें ।

5- नमक का कम से कम करें प्रयोग

  आजकल के जीवनशैली में सबसे ज्यादा प्रयोग नमक का ही किया जा रहा है । लोग नमकयुक्त बन खाने मे अलग से और थोड़ा नमक मिक्स कर रहे हैं । जहां तक शरीर में नमक की आवश्यकता का सवाल है तो खाने में किए गए नमक के प्रयोग से ही वह पूरा हो जाता है इसलिए भोजन के सिवाय अन्य चीजों में नमक का प्रयोग न करें ।

6 वजन पर रखें काबू

  बढ़ता वजन कई बीमारियों की सौगात लाता है । यह साबित हो चुका है ओवरवेट लोगों में दूसरे लोगों से कहीं ज्यादा शुगर होने ,ब्लड प्रेशर बढ़ने या कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने आदि की संभावनाएं ज्यादा होती है जो लोग इस रोग से ग्रसित हैं उनका वजन बढ़ना बिल्कुल भी ठीक नहीं है इसलिए अपने वजन को नियंत्रित रखें । वजन को मापने का एक सीधी-सादा फार्मूला यह भी है कि आपकी लंबाई जितनी इंच की है आपका वजन भी उतना ही किलोग्राम हो ।

कुछ विशेष बातें


1- शुगर लेवल की करें नियमित जांच

  दोस्तों बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं जो शुगर हो जाने के बावजूद उसकी जांच कराएं बगैर उसके लक्षणों से उसको घटना बढ़ना तय करते हैं । जो कि बिल्कुल भी अच्छा नहीं है । यदि किसी को यह रोग हो चुका है तो यह आवश्यक है कि वह प्रतिदिन या सप्ताह में कम से कम एक बार इसकी जांच जरूर करें हो सके तो बाजारों में बहुत ही सस्ते दरों पर मिल रही मशीनों को खरीद के इसका उपयोग स्वयं करें क्योंकि अक्सर पैथोलॉजी सेंटर्स पर जा पाना संभव नहीं हो पाता या फिर लापरवाही हो जाती है ।


2- आंखों की जांच

  इस रोग से ग्रस्त व्यक्तियों को हर 3 महीने पर अपनी आंखों की जांच जरूर कराने लेनी चाहिए  और क्योंकि अगर वह ऐसा नहीं करते हैं । तो उनकी आंखों की रोशनी भी काफी बुरा प्रभाव पड़ सकता है ।

3- हॉट एवं किडनी की जांच

  शुगर का असर हॉट और किडनी पर विशेष तौर पर पड़ता है इसलिए इसकी नियमित जांच कराते रहना बहुत ही जरूरी है । कोई असामान्य क्षति होने पर उस समय से उस से निपटा जा सके ।

4- वजन की जांच

  वजन की माप  अक्सर लोग आईने में खुद को देख कर ही अपने वजन का अनुमान लगा लेते हैं या फिर अपने पेट की बड़ी साइज को अपने वेट कम मानक समझ लेते हैं मगर ऐसा बिल्कुल न करें । अगर आप इस रोग से ग्रसित हैं आपको नियमित हर महीने अपने वजन का माप अवश्य करा लेना चाहिए ।

इमरजेंसी में क्या करें

  इन सब चीजों को अपनाने के बाद आपको शायद ऐसी स्थिति का सामना न करना पड़े परंतु फिर भी अगर ऐसी स्थिति प्रकट होती है । जिसमें पेशेंट की स्थिति काफी बिगड़ती नजर आती है तो उसे दौड़कर डॉक्टर के पास ले जाने से पहले कुछ जरूरी इलाज हम स्वयं कर सकते हैं । अगर इस रोग से ग्रस्त व्यक्ति के शरीर में वह सारे लक्षण प्रतीत हो रहे हैं । जो शुगर पेशेंट मे होते हैं आपको लग रहा है कि अगले का शुगर लेवल काफी बढ़ाया गया या काफी घट चुका है और वह खतरनाक स्थिति में है ।
  तो ऐसे में डॉक्टर के पास ले जाने में शायद देर भी हो सकती है । इसलिए कुछ इलाज आप घर पर ही कर ले और फौरन डॉक्टर के पास लेकर पहुंचे ।
  जी हां आप पेशेंट को अगर आपके पास शुगर मापने का मशीन अवेलेबल नहीं है तो उसे फौरन थोड़ा मीठी चीज खिला दे या फिर अगर घर में चाय तैयार हो एकदम से तो उससे वह चाय पिला दे देर न करें ।
  इसके दो फायदे अगर पेशंट का शुगर लेवल बड़ा होगा तो चीनी इस प्रकार की चीजों के प्रयोग से थोड़ा और बढ़ जाएगा मगर उससे कोई विशेष नुकसान नहीं होगा परंतु अगर उसका शुगर लेवल घटा हुआ है । तो और घट सकता है ऐसे में पेशेंट की जान भी जा सकती है इसलिए उसे चीनी खिलाने पर या ऐसी चीजें देने पर उसका शुगर लेवल कुछ बढ़ जाएगा और अस्पताल तक वह पहुंच सकेगा । तो ऐसी स्थिति आने पर आप इस नुस्खे का प्रयोग अवश्य करें और उसे फौरन अस्पताल ले जाए।
@@@@@
                Writer
  Karan "GirijaNandan"
                 With  
 Team MyNiceLine.com 

तो दोस्तो ये थी, हमारा आज का लेख ये Article आपको कैसा लगा कृपया कमेंट करके हमें जरूर बताएं । हमें आपके बहुमूल्य विचारों का इंतजार रहेगा ।
आपके विचार हमारा मार्गदर्शन
  Article पसंद आया हो तो कृपया अपने दोस्तों और परिवार के लोगों को हमारी वेबसाइट www.MyNiceLine.com  के बारे में जरूर बताएं ।
  आप से request है कि, 2 मिनट का समय निकालकर इस लेख को, अपने सोशल मीडिया अकाउंट  [ facebook, twitter आदि ] पर Share जरूर करें ताकि आप से जुड़े लोग भी इस लेख का आनंद ले सकें और इससे लाभ उठा सकें ।
  अगर आपके पास कोई कहानी, विचार, जानकारी या कुछ भी ऐसा है जो आप इस वेबसाइट पर पोस्ट [Publish] करना चाहते हैं तो उसे कृपया अपने नाम और अपने फोटो के साथ हमें भेजें
  अपनी पोस्ट भेजें .. .
 --या--
हमें ईमेल करें हमारी Email-id है:-
   [email protected]
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो के साथ यहाँ www.MyNiceLine.com पर Publish करेंगे ।
  हमसे सोशल मीडिया साइट्स [facebook, twitter आदि] पर जुड़ने के लिए कृपया हमें follow करें ।
  इसप्रकार हमने यहाँ जाना कि मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग क्या होता है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग होने के क्या कारण है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के लक्षण अथवा पहचान क्या हैं ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के रोकथाम के आसान उपाय क्या है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग से कैसे बचे ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग के दुष्प्रभाव क्या है ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग मे क्या करे ? मधुमेह, डायबिटीज या शुगर रोग मे क्या ना करे ? If this Article  is useful to you, please share it.
loading...
MyNiceLine. com
MyNiceLine. com

MyNiceLine.com शायरी, कविता, प्रेरणादायक कहानीयों, जीवनी, प्रेरणादायक विचारों, मेक मनी एवं स्वास्थ्य से सम्बंधित वेबसाइट है । जिसका मकसद इन्हें ऐसे लोगों तक ऑनलाइन उपलब्ध कराना है जो इससे गहरा लगाव रखते हैं !!

Follow Us On Social Media

About Us | Contact Us | Privacy Policy | Subscribe Now | Submit Your Post