12 December, 2018

युवराज सिंह का जीवन परिचय | Yuvraj Singh Biography In Hindi

loading...



जन्म - 12 दिसंबर 1981
उपनाम - युवी एवं सिक्सर किंग
स्थान - चंडीगढ, पंजाब, भारत
माता - शबनम सिह
पिता - योगराज सिंह  (पूर्व भारतीय क्रिकेटर एवं अभिनेता)
भाई - जोरावर सिंह
पत्नी - हेज़ल कीच (अब गुरबसंत कौर)
शिक्षा - मैट्रिक  (डीएवी पब्लिक स्कूल, चंडीगढ)
कद - 6 फिट 1 इंच
जर्सी नम्बर - 12
धर्म - सिख
रूचि - रोलर स्केटिंग और टेनिस
पसंदीदा क्रिकेटर - सचिन तेंदुलकर
पेशा - क्रिकेटर
बल्लेबाज - बाए हाथ
बाॅलर - बाए हाथ
फिल्मे - पट सरदारा दें एवं मेहंदी शगना दी
सम्मान - अर्जुन पुरस्कार,  पद्मश्री पुरस्कार 
संन्यास - 10 जून 2019 (अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट )
loading...

  जर्सी नम्बर 12, युवराज सिंह उर्फ युवी का जन्म 12 दिसंबर सन 1981 मे चंडीगढ, पंजाब मे हुआ था । उनके पिता योगराज सिंह एक जाट हैं जोकि एक बेहतरीन भारतीय गेंदबाज और अभिनेता रह चुके हैं ।युवराज सिंह की माता शबनम सिंह है ।

  युवराज सिंह को लोग युवी या सिक्सर किंग कहके भी बुलाते हैं । युवराज सिंह के एक भाई भी हैं जिनका ना जोरावर सिंह है । युवराज सिंह ने चंडीगढ के डीएवी पब्लिक स्कूल से मैट्रिक की शिक्षा प्राप्त की ।

  युवराज सिंह बचपन से ही बहुत प्रतिभाशाली थे । उन्हे क्रिकेट से ज्यादा रोलर स्केटिंग और टेनिस मे रूचि थी । इतना ही नही उन्होने नेशनल रोलर स्केटिंग अंडर-14 प्रतियोगिता मे खिताब भी जीता है परंतु उनकी इच्छाओ के विपरीत युवी के पिता योगराज सिंह उन्हे अपनी तरह ही उन्हे एक क्रिकेटर बनाना चाहते थे । इसके लिए उन्होंने युवी को काफी ट्रेनिंग भी दी ।

  प्रतिभाओ के युवराज युवी को क्रिकेट, रोलर स्केटिंग और टेनिस के साथ-साथ फिल्मो मे भी रूचि थी । युवी ने बाल कलाकार के तौर पर "पट सरदारा दें" एवं "मेहंदी शगना दी", दो फिल्मो मे अभिनय भी किया । बाद मे युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह और मां शबनम सिंह का तलाक हो गया जिसके बाद युवी अपनी मां शबनम सिंह के साथ रहने लगे ।
-----
loading...
-----
  युवराज सिंह बाए हाथ के हरफनमौला  (all rounder) खिलाड़ी है अर्थात अपने युवी न सिर्फ बाए हाथ के बेहतरीन बल्लेबाज हैं बल्कि वो बाए हाथ के अच्छे गेंदबाज भी हैं । ऐसे ही महान क्रिकेटर्स के बारे मे जानकारी , Email मे प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें. It's Free !

  युवराज सिंह उस समय युवाओ की पहली पसंद बनकर उभरे जब 2007 मे खेले गए T-20 वल्र्ड कप मे उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ खेलते हुए स्टुअर्ड ब्राड की सभी 6 गेंदों पर 6 छक्के मारकर कभी न टूटने वाला T-20 मैचो का रिकॉर्ड बना डाला । इतना ही नही युवराज सिंह ने 12 गेदों मे अपने पचास रन भी पूरे किए जो कि 20-20 फार्मेट का विश्व रिकॉर्ड है इसप्रकार 2007 का यह T-20 वल्र्ड कप न सिर्फ युवराज सिंह के लिए अपितु सारे भारतवासियों के लिए यादगार बन गया ।

  सन 2011 के विश्व कप मे जबरदस्त परफार्मेंस के लिए उन्हे "मैन आॅफ द टूर्नामेंट" घोषित किया गया ।

  परन्तु अचानक युवी की जिंदगी मे भूचाल आ गया सन 2011 मे युवराज को पता चला कि उनके फेफड़ो मे कैंसर हो गया परंतु मुश्किल परिस्थितिओ से टीम को उबारने वाले युवी ने कैंसर के सामने हार नही मानी और अपनी इस बिमारी दो-दो हाथ करने की ठान ली ।
-----
loading...
-----
  परिणामस्वरूप क्रिमोथेरेपी की मदद से युवराज सिंह न सिर्फ कैंसर नामक इस जानलेवा बिमारी को उखाड़ फेंकने मे सफल रहें बल्कि दुनिया भर के कैंसर पीड़ितो के लिए एक मिसाल बन कर उभरें ।

  मानवता के प्रतिमूर्ति युवी ने साल 2012 मे "YouWeCan" नामक संगठन बनाया जो कैंसर पीड़ितो की मदद करती है ।

  युवराज सिंह ने सर्वप्रथम  12 नवंबर 2015 मे ब्रिटिश मॉडल हेज़ल कीच के साथ सगाई की और पुनः 30 नवंबर 2016 को उनसे विवाह किया । 1986 मे जन्मी, भारतीय मूल की हेज़ल कीच न सिर्फ एक माडल हैं बल्कि सलमान खान द्वारा अभिनीत फिल्म बॉडीगार्ड व अन्य कई फिल्मो मे काम कर चुकी हैं । हेज़ल कीच को युवी से विवाह के समय गुरबसन्त कौर (सीख) नाम दिया गया ।

  युवराज सिंह ने सर्वप्रथम सन 2000 मे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मे पदार्पण किया । अपने द्वारा खेल गए 300 से ज्यादा मैचो में आठ हजार से अधिक रन बनाए एवं 100 से ज्यादा विकेट भी लिए । सन 2003 से टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत करने वाले युवी ने 40 मैचो मे लगभग दो हजार रन बनाए एवं कई विकेट भी चटकाए । इतना ही नही 20-20 क्रिकेट के सुपर स्पेशलिस्ट युवराज सिंह ने 2007 से आरम्भ हुए अपने दस वर्षो के करियर मे खेले गए 50 से ज्यादा मैचो मे लगभग ग्यारह सौ रन बनाए एवं दो दर्जन से ज्यादा विकेट भी अपने नाम किया ।


  क्रिकेट जगत मे युवराज सिंह की पहली पसंद सचिन तेंदुलकर हैं । ऐसे महान खिलाड़ी को सन 2012 मे  भारत के 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा "अर्जुन अवार्ड" से सम्मानित । इतना ही नही सन 2014 मे युवराज सिंह को पद्मश्री पुरस्कार भी दिया गया ।
  10 जून सन् 2019 को क्रिकेट के युवराज ने अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया । हालांकि अभी युवराज मे बहुत क्रिकेट बाकी था परन्तु पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी एवं BCCI की उनके प्रति ईष्या एवं गुटबाजी का वे शायद शिकार हो गए ।
-----
loading...
-----

 Article पसंद आई हो तो कृपया Share, Comment & हमें follow जरूर करें ! ... thanks.

  Writer
  Karan "GirijaNandan"
 With  

                    

 अगर आपके पास कोई विचार, कोई जानकारी, कहानीशायरी , कविता ,  या कुछ भी ऐसा है जो आप इस वेबसाइट पर पोस्ट [Publish] कराना चाहते हैं तो उसे कृपया अपने नाम और अपने फोटो के साथ हमें भेजें
 --या--
हमें ईमेल करें हमारी Email-id है:-
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ www.MyNiceLine.com पर Publish करेंगे ।

 हमें उम्मीद है कि आपको हमारी ये Article पसंद आई होगी । इस Article के विषय मे अपने विचार कृपया कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं । यदि यह Article आपको पसंद आई हो तो कृपया अपने दोस्तों और परिवार के लोगों को हमारी वेबसाइट www.MyNiceLine.com के बारे में जरूर बताएं । आप से request है कि, 2 मिनट का समय निकालकर इस Article को, अपने सोशल मीडिया अकाउंट  [facebook, twitter, google plus आदि] पर Share जरूर करें ताकि आप से जुड़े लोग भी इस Article का आनंद ले सकें और इससे लाभ उठा सकें । इन Article को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर प्राप्त करने के लिए हमारे सोशल मीडिया साइट्स [facebooktwittergoogle plus आदि] को कृपया follow करें ।  हमारे Article को अपने Email मे प्राप्त करने के लिए कृपया अपना Email-id भेजें ।

loading...
MyNiceLine.com
MyNiceLine.com

MyNiceLine.com शायरी, कविता, प्रेरणादायक कहानीयों, जीवनी, प्रेरणादायक विचारों, मेक मनी एवं स्वास्थ्य से सम्बंधित वेबसाइट है । जिसका मकसद इन्हें ऐसे लोगों तक ऑनलाइन उपलब्ध कराना है जो इससे गहरा लगाव रखते हैं !!

Follow Us On Social Media

About Us | Contact Us | Privacy Policy | Subscribe Now | Submit Your Post