गजल सम्राट पंकज उधास की जीवनी और उनसे जुड़े बेहद रोचक तथ्य | गजल गायक पंकज उधास का जीवन परिचय | pankaj udhas biography and life history in Hindi

Pankaj Udhas Biography And Life History in Hindi


जन्म: 17 मई 1951
स्थान - जेतपुर, राजकोट, गुजरात
शिक्षा: सेंट जेवियर्स कॉलेज
माता - जीतूबेन उधास
पिता - केशूभाई उधास
विवाह - 1982
पत्नी -फरीदा (पारसी)
बच्‍चे: रेवा उधास, नायाब उधास
भाई - मनहर उधास, निर्मल उधास,
पेशा - गज़ल गायक, पार्श्व गायक (Playback singer), संगीत निर्देशक (Music director)
प्रसिद्ध गीत - चिट्ठी आई है
धर्म - हिंदू
सम्मान - पद्मश्री

गजल सम्राट पंकज उधास का जन्म जेतपुर, गुजरात के एक जमींदार परिवार में हुआ था जो बाद में मुंबई में आकर बस गए । पंकज उधास, न सिर्फ गजल गायक है बल्कि उन्हें ग़ज़लें लिखने का भी शौक है । पंकज उधास अपने तीनों भाइयों में सबसे छोटे हैं उनके दोनों भाई मनोहर उधास और निर्मल उधास ने भी गीत संगीत की दुनिया में खूब रंग जमाया ‌।

हालांकि पंकज उधास का शुरुआती सफर असफलताओं में गुजरा । 1972 में रिलीज हुई कामना में उन्हें गायकी का मौका मिला परंतु वे असफल रहें । इसके पूरे 8 साल बाद सन 1980 में उनका गजल एल्बम "आहट" रिलीज हुआ जिसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और सफलताओं की सीढ़ियां चढ़ते चले गए । सन 1986 में रिलीज हुई "नाम" फिल्म ने पंकज उधास को नई ऊंचाइयों पर लाकर खड़ा कर दिया । इस फिल्म में पंकज उधास को लगा मंगेशकर के साथ काम करने का मौका मिला । 

पंकज उधास गजल गायक के साथ-साथ पार्श्वगायक एवं म्यूजिक डायरेक्टर के रूप में भी अपना अमूल्य योगदान देते रहे हैं । फिल्म माधुरी दीक्षित और सलमान खान द्वारा अभिनीत फिल्म "साजन" में उनके द्वारा गाया हुआ गीत "जिए तो जिए कैसे बिन आपके" आज भी लोगों की जुबान पर अक्सर आ ही जाता है ‌। गजल सम्राट पंकज उधास को उनकी कला के लिए भारत के चतुर्थ सर्वोच्च सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है ।



विवाहित जीवन


पंकज उधास का निजी जीवन भी उनकी गजलों की तरह ही है । पंकज उधास का विवाह फरीदा से हुआ जोकि पारसी धर्म से हैं । वही पंकज उधास जाति से हिंदू हैं जिसके कारण उनके शादी में काफी बाधाएं आयीं परंतु आखिरकार वे फरीदा को अपनी जीवनसंगिनी बनाने में कामयाब रहें ।



प्रसिद्ध गीत व गजलें: 


चांदी जैसा रंग है तेरा, चुपके चुपके सखियों से, चुपके-चुपके रात दिन, कुछ न कहो कुछ भी न कहो,


रोचक तथ्य


  • परदेस में रहने वालों की आंखों में आंसू ला देने वाला गीत "चिट्ठी आई है" पंकज उधास द्वारा गाया हुआ गीत है ।
  • सन 1962 में पंकज उधास ने भारत चीन युद्ध के दौरान सन 1962 में "ऐ मेरे वतन के लोगों" गीत गाया जिसके लिए उन्हें 51 रूपए का इनाम दिया गया ।
  • सन 1980 में पंकज उधास ने अपनी पहली एल्बम "आहट" लांच की ।
  • पंकज उधास ने सोनी टीवी पर "आदाब अर्ज है" नाम से एक टैलेंट शो भी शुरू किया ।
  • साकी, शराब व मयखाने पर पंकज उदास द्वारा गायीं हुईं गीत व ग़ज़लें अक्सर सुनने को मिल जाती हैं ।


 Writer

  Karan "GirijaNandan"
 With  
 Team MyNiceLine.com

यदि आप के पास कोई कहानी, शायरी , कविता  विचार या कोई जानकारी ऐसी है जो आप यहाँ प्रकाशित करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और अपनी फोटो के साथ हमें इस पते पर ईमेल करें:
  Contact@MyNiceLine.com
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे ।

"पंकज उधास की जीवनी और उनसे जुड़े बेहद रोचक तथ्य" आपको कैसी लगी, कृपया नीचे कमेंट के माध्यम से हमें बताएं । यदि लेख पसंद आया हो तो कृपया इसे Share जरूर करें !

हमारी नई पोस्ट की सुचना Email मे पाने के लिए सब्सक्राइब करें

loading...