सरस्वती, लक्ष्मी, दुर्गा देवी
कहने को अवतार है बेटी,
जीवन का हर बाग - बगीचा
करती तो गुलजार है बेटी,
घर - गली, सड़क - मोहल्ले
और सजाती घर द्वार है बेटी,
जीवन की डूबती नैया को
बचानेवाली खेवनहार है बेटी,
पापियों के नाश हेतु
चंडी का अवतार है बेटी,
ये सब तो कहने को ही हैं
क्योंकि आज भी भार है बेटी !

Sarasvatee, Lakshmee, Durga Devee,
Kahane ko Avataar Hai Betee, 
Jeevan ka Har Baag - Bageecha 
Karatee To Gulajaar Hai Betee, 
Ghar - Galee, Sadak - Mohalle 
Aur Sajaatee Ghar Dvaar Hai Betee, 
Jeevan Kee Doobatee Naiya Ko
Bachaanevaalee Khevanahaar Hai Betee,
Paapiyon Ke Naash Hetu
Chandee Ka Avataar Hai Betee, 
Ye Sab To Kahane Ko Hee Hain 
Kyonki Aaj Bhee Bhaar Hai Betee !

बेटी | बेटी पर कविता | Poem on Daughter in Hindi


Poet
प्रेरणा कुमारी



यह कविता प्रेरणा कुमारी द्वारा लिखी गई है | प्रेरणा कुमारी बेगूसराय, बिहार की रहने वाली है | समाज की  बुराइयों पर कुठाराघात करना आपकी कविताओं की प्रमुख विशेषता है | MyNiceLine पर  आपकी एक और प्रमुख रचना प्रश्न कविता है |

यदि  आप के पास कोई कहानी, शायरी , कविता  विचार या कोई जानकारी ऐसी है जो आप यहाँ प्रकाशित करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और अपनी फोटो के साथ हमें इस पते पर ईमेल करें:
  Contact@MyNiceLine.com
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे ।

"बेटी | बेटी पर कविता | Poem on Daughter in Hindi" आपको कैसी लगी, कृपया नीचे कमेंट के माध्यम से हमें बताएं । यदि कविता पसंद आई हो तो कृपया इसे Share जरूर करें !

हमारी नई पोस्ट की सुचना Email मे पाने के लिए सब्सक्राइब करें

loading...