प्रकाश को कॉलेज छोड़ें काफी वक्त गुजर गए थे। सभी दोस्त एक दूसरे से जुदा हो गए थे। एक दिन एक शादी की पार्टी में सुजीत और प्रकाश मिले दोनों एक दूसरे को काफी समय बाद सामने पाकर काफी खुश हुए दोनों में काफी बातें शुरू हो गई, और साथ ही कई ढेर सारी पुरानी यादें ताजा होने लगी।

    सुजीत ने बताया कि कॉलेज के कई और दोस्त आज भी उसके कांटेक्ट में है, और उसी शहर में भी हैं पर व्यस्तता  की वजह से उनमें बाते नहीं हो पाती है। यह सुनकर प्रकाश ने उन सभी दोस्तों की लिस्ट मांगी और सबसे फोन पर बातें भी हुई।

    कॉन्फ्रेंस कॉलिंग के दौरान ही सभी दोस्तों ने मिलकर एक पार्टी इंजॉय करने और साथ में टाइम स्पेंड करने का फैसला किया ।

    पार्टी के दिन सभी दोस्त टाइम से प्रकाश के घर इकट्ठा हुए सबमे गपशप शुरू हो गई सब ने अपनी नई पुरानी बातें एक दूसरे से शेयर कि कॉलेज के दिन फिर से लौट आए। पार्टियों का सिलसिला यूं ही हर हफ्ते छुट्टियों के दिन चलने लगा।

    इन्हीं सब के बीच प्रकाश की एक कॉलेज फ्रेंड सविता ने महसूस किया, कि पार्टी में अब पहले जैसी रौनक नहीं है। अब सारे दोस्त इकट्ठा तो होते हैं मगर हाय हेलो के बाद सब अपने अपने मोबाइल में खो जाते हैं। सब पास पास रहकर भी जैसे कोसों दूर हो जाते है। कोई अगर अचानक सबसे कुछ शेयर करता है, तो वह सोशल मीडिया में आया हुआ जरूर कोई रोचक मैसेज होता है। वरना पार्टी मे अब बड़ी शांत होने लगी  है ।
---------
    न्यू ईयर आने वाला था। सविता सभी दोस्तों से कहती है मेरे ख्याल से इस बार पार्टी किसी के घर पर नहीं बल्कि कालेज के गेट के सामने जो पार्क है, वहां होगी सब सविता की बात मान लेते हैं। न्यू ईयर की शाम भी आ जाती है। सब वहां अपनी भारी भरकम गाड़ियों से उतरते हैं।

    जैसे ही वह आगे बढ़ते हैं। सविता उन्हें रोक देती है उसके हाथ में एक पोस्टर है जिस पर मोटे मोटे अक्षरों में लिखा था।        

   "मोबाइल नॉट अलाउड" कुछ तो मुस्कुरा कर अपने मोबाइल वही रख देते हैं। बाकी जो नहीं मानते उनको सविता ने फोर्स करके आखिर उनका मोबाइल रखवा लेती है ।

     वाकई आईडिया काम आया सब ने खूब मस्ती की,
   खूब धूम धड़ाका हुआ। उसके बाद हर बार पार्टी में मानो यह पार्टी का जैसे रूल ही बन गया हो


इस कहानी से क्या शिक्षा मिलती है :-

दोस्तों माना कि मोबाइल हमारी जिंदगी का एक मुख्य हिस्सा बन चुका है मगर जिंदगी के छोटे-छोटे इंजॉयमेंट को इस में जाया न होने दें।


इन हिन्दी कहानियों को भी जरूर पढ़े | Best Stories In Hindi


         Writer
        Karan "GirijaNandan"
       With  
       Team MyNiceLine.com

      यदि आप के पास कोई कहानी, शायरी , कविता  विचार या कोई जानकारी ऐसी है जो आप यहाँ प्रकाशित करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और अपनी फोटो के साथ हमें इस पते पर ईमेल करें:
        Contact@MyNiceLine.com
        हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे ।

        "ताकि, खुबसूरत पल जाया न जाए | Do Not Waste Your Time Just Enjoy Inspirational Story In Hindi " आपको कैसी लगी कृपया, नीचे कमेंट के माध्यम से हमें बताएं । यदि कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे Share जरूर करें !

      हमारी नई पोस्ट की सुचना Email मे पाने के लिए सब्सक्राइब करें

      loading...