"सावन"

बूंद गिरे जब सावन की,
मन में हलचल होती है ।।
छम-छम करती पैजनिया सी,
नैनन को सुख देती है ।।
भीग उठे जब सावन में हम,
मन भी पावन हो जाए ।।
सावन की इस बरखा में,
मन वृंदावन सा हो जाए ।।
बरसों-बरस से प्यासे से मन की,
प्यास बुझावन देती है ।।
छम छम करती पैजनिया सी,
नैनन को सुख देती है ।।

   Poet :-   "Karan "GirijaNandan"




"सपने"

देखे जिनके सपने,
वो नही थे अपने ।।
उनके भी सपने न्यारे,
कदमो में चाँद सितारे ।
उम्मीद उनकी न हुई पूरी,
ये रात भी रह गई अधूरी ।
देखे जिनके सपने 
वो नही थे अपने...
कुछ पल और रुक जाते,
बात मेरी भी मान जाते ।
दामन भर देता खुशियो से,
अगर विश्वास मेरा कर पाते ।
देखे जिनके सपने, 
वो नही थे अपने ।।

  Poet :-    "Ajay Kushwaha"


यदि आप के पास कोई कहानी, शायरी , कविता  विचार या कोई जानकारी ऐसी है जो आप यहाँ प्रकाशित करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और अपनी फोटो के साथ हमें इस पते पर ईमेल करें:
  Contact@MyNiceLine.com
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे ।

  "हिंदी कविताएँ | Hindi Kavitayen" आपको कैसी लगीं कृपया, नीचे कमेंट के माध्यम से हमें बताएं । कविताएँ यदि पसंद आई हो तो कृपया इसे Share जरूर करें !

हमारी नई पोस्ट की सुचना Email मे पाने के लिए सब्सक्राइब करें

loading...