13 September, 2019

कभी सोचा न था | दिल को छू लेने वाली कविता | Poem In Hindi

loading...


कभी सोचा न था !
आत्मा की बेचैनी ,
यूँ तुझे तड़पाएगी ,
हृदय की जलती अंगीठी ,
ठिठुरते ठंढ़ में ,
हाथ सेंकने के काम आएगी ।
कभी सोचा न था  !
मन की यह जलन, 
धुआँ बन कर ,
फेफड़ों में भर जाएगी 
सांसों की डोर थामे, 
जीवन की गाड़ी, 
चलते  -  चलते बस – 
यूँ ही ठहर जाएगी ।
कभी सोचा न था !
यादें तेरी धरोहर बन कर ,
मेरे अन्तर में घुल जाएगी ,
और , ये मेरी बेमानी - सी ,
जिन्दगी ! अचानक !
एक कहानी बन जाएगी ।
कभी सोचा न था !
मेरे श्रद्धा और विश्वास के  -
जल से सिञ्चित 
तेरे सपनों के बाग लहलहायेंगे 
,पर अपने ही माली के,
एक स्पर्श की कामना, 
कायिक सुख के स्वार्थ की 
घोषणा कर जाएगी ,
कभी सोचा न था !!

Writer
         बंदना पाण्डेय वेणु               

   
 यह कविता "डॉ बन्दना पाण्डेय जी" द्वारा रचित है । आप मधुपुर, झारखंड स्थित एम एल जी उच्च विद्यालय, में सहायक शिक्षिका हैं । आपको, कविता, कहानी और संस्मरण के माध्यम से मन की अनुभूतियों को शब्दों में पिरोना बेहद पसंद है । आप द्वारा लिखी गई कहानी कैद से मुक्तिसो गईं आँखें दास्ताँ कहते कहते ,  अहंकार या अपनापन  व लेख "एक चिट्ठी यह भी" आपके गहरे चिंतन पर आधारित है । अपनी रचना MyNiceLine.com पर साझा करने के लिए हम उनका हृदय से आभार व्यक्त करते हैं!


  यदि आप के पास कोई कहानीशायरी कविता , विचार, कोई जानकारी या कुछ भी ऐसा है जो आप इस वेबसाइट पर प्रकाशित करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और अपने फोटो के साथ हमें इस पते पर ईमेल करें:-
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे ।

 आपको ये कविता "कभी सोचा न था" कैसी लगी कृपया, नीचे कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं । कविता यदि पसंद आई हो तो कृपया इसे Share जरूर करें !
loading...
MyNiceLine.com
MyNiceLine.com

MyNiceLine.com शायरी, कविता, प्रेरणादायक कहानीयों, जीवनी, प्रेरणादायक विचारों, मेक मनी एवं स्वास्थ्य से सम्बंधित वेबसाइट है । जिसका मकसद इन्हें ऐसे लोगों तक ऑनलाइन उपलब्ध कराना है जो इससे गहरा लगाव रखते हैं !!

Follow Us On Social Media

About Us | Contact Us | Privacy Policy | Subscribe Now | Submit Your Post