जीत पक्की है गर यकीन सच्चा है !  

बिहार हमारा - बिहार दिवस पर कविता Poem in Hindi


प्राप्त हुआ जिस पर बुद्ध को ज्ञान,
जहां पर जन्मे थे दिनकर महान्,
जिस मिट्टी से बने कुंवर सिंह जैसे संतान,
वही है हमारा बिहार महान् । 
जहां दिए कर्ण ने समानता का नारा,
जहां के जयप्रकाश बनें देश का सहारा,
जिस आर्यभट्ट के आगे हर गणितज्ञ हारा,
वह अद्वितीय राज्य है बिहार हमारा ।
जहां से गुजरती है गंगा की पवित्र धारा,
जहां से फूटी लोकतंत्र की धारा,
वह अद्वितीय राज्य बिहार हमारा।




Poet
प्रेरणा गहलोत





यह कविता प्रेरणा कुमारी द्वारा लिखी गई है | प्रेरणा कुमारी बेगूसराय, बिहार की रहने वाली है | समाज की  बुराइयों पर कुठाराघात करना आपकी कविताओं की प्रमुख विशेषता है | MyNiceLine पर  आपकी अन्य प्रमुख रचनाएं कृपया यहाँ पढें!

यदि  आप के पास कोई कहानी, शायरी , कविता  विचार या कोई जानकारी ऐसी है जो आप यहाँ प्रकाशित करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और अपनी फोटो के साथ हमें इस पते पर ईमेल करें:
  Contact@MyNiceLine.com
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे ।

"बिहार हमारा - बिहार दिवस पर कविता Poem in Hindi" आपको कैसी लगी, कृपया नीचे कमेंट के माध्यम से हमें बताएं । यदि कविता पसंद आई हो तो कृपया इसे Share जरूर करें !


हमारी नई पोस्ट की सुचना Email मे पाने के लिए सब्सक्राइब करें

loading...