प्राप्त हुआ जिस पर बुद्ध को ज्ञान,
जहां पर जन्मे थे दिनकर महान्,
जिस मिट्टी से बने कुंवर सिंह जैसे संतान,
वही है हमारा बिहार महान् । 
जहां दिए कर्ण ने समानता का नारा,
जहां के जयप्रकाश बनें देश का सहारा,
जिस आर्यभट्ट के आगे हर गणितज्ञ हारा,
वह अद्वितीय राज्य है बिहार हमारा ।
जहां से गुजरती है गंगा की पवित्र धारा,
जहां से फूटी लोकतंत्र की धारा,
वह अद्वितीय राज्य बिहार हमारा।




Poet
प्रेरणा गहलोत





यह कविता प्रेरणा कुमारी द्वारा लिखी गई है | प्रेरणा कुमारी बेगूसराय, बिहार की रहने वाली है | समाज की  बुराइयों पर कुठाराघात करना आपकी कविताओं की प्रमुख विशेषता है | MyNiceLine पर  आपकी अन्य प्रमुख रचनाएं कृपया यहाँ पढें!

यदि  आप के पास कोई कहानी, शायरी , कविता  विचार या कोई जानकारी ऐसी है जो आप यहाँ प्रकाशित करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और अपनी फोटो के साथ हमें इस पते पर ईमेल करें:
  Contact@MyNiceLine.com
  हम  आपकी पोस्ट को, आपके नाम और आपकी फोटो (यदि आप चाहे तो) के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे ।

"बिहार हमारा - बिहार दिवस पर कविता Poem in Hindi" आपको कैसी लगी, कृपया नीचे कमेंट के माध्यम से हमें बताएं । यदि कविता पसंद आई हो तो कृपया इसे Share जरूर करें !


हमारी नई पोस्ट की सुचना Email मे पाने के लिए सब्सक्राइब करें

loading...